क्लींजिंग थेरेपी

क्लींजिंग थेरेपी के प्रणेता डॉ. पीयूष सक्सेना बढ़ते प्रदूषण, पैरासाइट और बिगड़ी लाइफ स्टाइल वगैरह को ही तमाम बीमारियों की जड़ मानते हैं। इनके चलते शरीर में टॉक्सिन्स् जमा होते रहते हैं, जिससे शरीर के अंग सही ढंग से काम नहीं कर पाते और हम बीमार हो जाते हैं। अगर इन टॉक्सिन्स् को शरीर से बाहर निकाल दिया जाए तो लगभग 90 प्रतिशत स्वास्थ्य समस्याओं का इलाज हो जाता है। शरीर से टॉक्सिन्स् बाहर निकालने की ये प्रक्रिय क्लींजंग थेरेपी है। क्लींजंग थेरेपी में प्रतिदिन इस्तेमाल की ची़जों के कभी-कभी सेवन से शरीर के अंदरूनी अंगों की सफार्इकी जाताहै। क्लींजंग थेरेपी में आपको परहेज की जरूरत नहीं है। आप सब कुछ खा-पी सकते हैं और जंदगी का भरपूर आनंद ले सकते हैं। बस समय-समय पर क्लींज भर करते रहें। इससे आप रोगग्रस्त होने से बचे रहेंगे। डॉ. सक्सेना ने क्लींजंग थेरेपी के नुस्खों को पहले खुद पर आजमाया। इसके चमत्कारी परिणामों को देखने के बाद उनके परिवार के सदस्यों और मित्रों / परिचितों ने भी इसे आजमाया और इसका लाभ उठाया। डॉ. सक्सेना के अनुसार, ‘‘मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंजल… लोग जुड़ते
गये और थेरेपी आगे बढ़ती गयी”।
पॉल्यूशन, पैरासाइट, प्रकृति के नियमों के खिलाफ चलना आदि कारणों से शरीर को जो नुकसान पहुंचता है, उससे शरीर के दो महत्वपूर्ण अंग किडनी व लिवर गंभीर रूप से प्रभावित होते हैं। परंतु इन दोनों अंगों की खूबी यह है कि ये तीन-चौथाई गड़बड़ी की दशा में भी अपना काम करते रहते हैं, इसलिए हमें इनके बीमार होने का पता ही नहीं चलता है। इस पुस्तिका में हम शरीर के इन दो बेजोड़ अंगों की क्लींजंग, उनकी समस्याओं व उससे जुड़े लक्षणों वगैरह के साथ आम-ओ-खास सभी की आम समस्या एसिडिटी की भी चर्चा करेंगे।

Sale!
1,630.00 1,490.00

Best Selling Products

Sale!

All Products

Liver Cleaning Kit

410.00 350.00
Sale!
500.00 380.00
Sale!
Sale!
New
Sale!
250.00 200.00
Sale!
350.00 320.00

Browse our categories

Latest News